जवानी जानेमन मूवी रिव्यू रेटिंग: 3.5/5 स्टार (साढ़े तीन स्टार!)

स्टार कास्ट: सैफ अली खान, अलाय एफ, कुब्रा सैत, कुमुद मिश्रा, तब्बू, चंकी पांडे

निर्देशक: नितिन कक्कड़

क्या अच्छा है: एक अभिनेता, जो बढ़ती उम्र के साथ बेहतर कर रहा हैं. साथ ही ये वादा करता है कि वह सिर्फ इतना ही समय दे सकता, जितने समय में वह अपने तरीके से खुद के अभिनय को दर्शा पाए.

क्या बुरा है: जोनर को स्थानांतरित करने की प्रक्रिया फिल्म के लागत को रोकती है, जिसे शुरू से ही बनाया गया था.

लू ब्रेक कब लें: कोई पल नहीं है, लेकिन बहुत जरूरी हो तो ही जाएं.

देखें या नहीं?: शायद हाल ही के दिनों में सिफारिश करने वाली सबसे आसान फिल्मों में से एक है, जिसका आंनद आप ले सकते हैं.

एक बिंदास और लापरवाह जैज़ उर्फ जस्सी (सैफ अली खान) लंदन में एक रियल एस्टेट ब्रोकर है, जो अपने जीवन का सबसे बड़ा सौदा क्रैक करने के लिए तैयार है. वह एक पार्टी का शौकीन है. उसे सबसे प्यार करना पसंद है, लेकिन उसकी उम्र 40 वर्ष है. जिसे वह पार कर रहा है. वह क्लब में एक लड़की टिया (अलाया एफ) से मिलता है, उसे अपने घर लाता है.

इस दौरान जैज़, टिया से फ्लर्ट करता है तभी उसे पता चलता है कि टिया उसी की बेटी है और वह शादी से पहले प्रेग्नेंट है. फिलहाल टिया, जैज़ को समझाती है कि उसके पिता होने की संभावना 33.33% कैसे है. कहानी में फिर आता है नया मोड़. जैज़ टिया को नहीं करता कबूल क्योंकि वह स्वतंत्रता का बलिदान करने के लिए तैयार नहीं है. बाकी कहानी यह है कि कैसे टिया जैज़ के करीब रहने की कोशिश करती है और आशा करती है कि उसे उसका परिवार मिल जाए.

जवानी जानेमन मूवी रिव्यू: स्क्रिप्ट एनालिसिस

स्क्रिप्ट आपका ध्यान आकर्षित करती है, लेकिन इसके अलावा इसमें सैफ अली खान की उपस्थिति है जो आपको झुकाए रखती है. उनका किरदार आपको शांत लगेगा, लेकिन उनके मजाक पर आपको हंसी जरूर आएगी. वहीं, स्क्रिप्ट कॉमेडी और ड्रामा के माध्यम से दोनों को समान रूप से संतुलित करती है. यह देखने में बेहद आसान है. इसमें कुछ अच्छे प्रदर्शन हैं, जो काफी प्रभावित करते हैं.

कभी-कभी मैं सोचने पर मजबूर हुआ कि निर्माताओं ने पूर्ण ’ए’ प्रमाणपत्र क्यों नहीं लिया क्योंकि इसे ए-रेटेड मामले में बनाया है, लेकिन इसका टारगेट तो दर्शक हैं. दूसरे सीन में गति कम हो जाती है, जब ड्रामा ड्राइविंग सीट पर ले जाता है. अजय देवगन की दे दे प्यार दे से जवानी जानेमन की कहानी थोड़ी मिलती-जुलती लगी.

जवानी जानेमन मूवी रिव्यू: स्टार परफॉर्मेंस

सैफ अली खान, बिना किसी संदेह के, बॉलीवुड के सबसे अच्छे उम्रदराज खान हैं. जैज़ का किरदार निभाने के लिए उनसे बेहतर कोई अभिनेता नहीं हो सकता है. वह किरदार को बेहतरीन तरीके से निभाते हैं.

अलाया के शब्द काफी आकर्षण है. टिया के किरदार के साथ उन्होंने बेहतर विकल्प निकाला है, जो देखने में बेहद दिलचस्प है.

कुब्रा सैट ने अपने प्रदर्शन के साथ परिभाषा को महत्व दिया है. मज़ेदार पंक्तियों के साथ कुछ नया और भावपूर्ण होने की उम्मीद नजर आती है.

तब्बू सिर्फ उस जगह पर हैं, जिसमें वह नजर आती हैं. उनके कुछ कॉमेडी दृश्य अच्छे हैं. चंकी पांडे ने हाउसफुल 4 के संवाद आकरी पास्ता के लहजे को भी नहीं बदला है.

जवानी जानेमन मूवी रिव्यू: डायरेक्शन, म्यूजिक

नितिन कक्कड़ का बेहद ईमानदार प्रयास. वहीं, वह कहानी को बड़े मजेदार तरीके से दर्शाते हैं. ड्रामा का हिस्सा पहले से ही कम गति (119 मिनट) को बढ़ाता हैं, जिससे आपको बीच में फिल्म के कुछ सीन्स की पकड़ खोनी पड़ती है. मैं म्यूजिक की बात करूं तो दो गाने अच्छे है, जिनमें से मुझे हर्षदीप कौर, अखिल सचदेवा का मेरे बाबुला बेहद पसंद आया.

जवानी जानेमन मूवी रिव्यू: द लास्ट वर्ड

कुल मिलाकर, जवानी जानेमन न केवल आपको हंसने पर मजबूर करता है, बल्कि कुछ दिल दहलाने वाले क्षणों से भी समर्थित है. एक आसान सिफारिश, बिना किसी अपेक्षा के जाएं, जिसे आप पसंद करेंगे.

साढ़े तीन स्टार!

जवानी जानेमन ट्रेलर…

जवानी जानेमन 31 जनवरी, 2020 को रिलीज़ हुई.

हमारे साथ जवानी जानेमन देखने का अपना अनुभव साझा करें.

यह भी देखें